Maut Shayari in Hindi | Shayari on Maut and Zindagi

Maut Shayari in Hindi : - हेलो दोस्तों अगर आप भी सर्च कर रहे हैं , बेहतरीन Maut Shayari शायरी हिंदी में हिंदी में अपने दोस्तों के साथ शेयर करने के लिए , व्हात्सप्प और फेसबुक पर तो आप बिलकुल सही जगह हो । हम आपके लिए इस पोस्ट में

बेहतरीन Maut Shayari शायरी का कलेक्शन लेकर आये हैं जो आपको बहुत पसंद आएगा आप लोग इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ।


Maut Shayari in Hindi  | Shayari on Maut and Zindagi



Aata Hai Kaun Kaun Tere Gham Ko Baantne,
Tu Apni Maut Ki Afwaah Udaa Ke Dekh

आता है कौन कौन तेरे ग़म को बांटने,
तू अपनी मौत की अफवाह उड़ा के देख।


Maut Shayari in Hindi
Maut Shayari in Hindi 




Maut Mangte Hain To Zindagi Khfa Ho Jati Hai,
Zehar Late Hain To Wo Bhi Dawa Ho Jata Hai.
Tu Hi Bta Ay Mere Dost Kya Karun.
Jisko Bhi Chahte Hain Wo Bewafa Ho Jata Hai.

मौत मांगते हैं तो ज़िन्दगी खफा हो जाती है,
ज़ेहर लाते हैं तो वो भी दवा हो जाता है,
तू ही बता ए मेरे दोस्त क्या करूँ,
जिसको भी चाहते हैं वो बेवफा हो जाता है।



Sansen Ruk Jaati Hain Jab Maut Aati Hai,
Sansen Hi Magar Maut Ka Ehsaas Kyon Hai.

सांसें रुक जाती हैं जब मौत आती है,
सांसें ही मगर मौत का एहसास क्यों है।


Zindagi Se To Khair Shikawa Tha,
Muddaton To Maut Ne Bhi Tarasaya.

ज़िंदगी से तो ख़ैर शिकवा था,
मुद्दतों तो मौत ने भी तरसाया।


Maine Apni Maut Ki Afavaah Udai Thi,
Dushman Bhi Kah Uthe... Aadmi Achchha Tha.

मैंने अपनी मौत की अफवाह उड़ाई थी,
दुश्मन भी कह उठे...आदमी अच्छा था।


Maut Ko To Yoon Hi Badnaam Karte Hain Log,
Takleef To Hamen Zindagi Deti Hai....

मौत को तो यूँ ही बदनाम करते हैं लोग,
तकलीफ तो हमें ज़िन्दगी देती है...।



Na Chaand Apna Tha Aur Na Tu Apana Tha,
Kaash Dil Bhi Maan Leta Ki Sab Sapna Tha
Koi Nahi Aaega Meri Zidngi Me Tumhare Siva,
Ek Maut Hi Hai Jiska Main Vada Nahi Karta.

ना चाँद अपना था और ना तू अपना था,
काश दिल भी मान लेता की सब सपना था
कोई नही आएगा मेरी ज़िदंगी मे तुम्हारे सिवा,
एक मौत ही है जिसका मैं वादा नही करता।


Kisi Ne Mujhse Poochha Dil Ka Matlab
Maine Hanske Kah Diya Thikana Tera.
Jab Poochha Suhani Shaam Kise Kahte Hain,
Maine Itra Ke Kah Diya Chahna Tera.
Usne Poochha Ke Batao Ye Qayamat Kya Hai,
Maine Ghabra Ke Kah Diya Rooth Jana Tera.
Maut Kahte Hain Kise Jab Mujhse Poochha,
Maine Aankhen Jhuka Kar Kaha Chhod Jana Tera.

किसी ने मुझसे पूछा दिल का मतलब
मैने हँसके कह दिया ठिकाना तेरा।
जब पूछा सुहानी शाम किसे कहते हैं,
मैने इतरा के कह दिया चाहना तेरा।
उसने पूछा के बताओ ये क़यामत क्या है,
मैने घबरा के कह दिया रूठ जाना तेरा।
मौत कहते हैं किसे जब मुझसे पूछा,
मैने आँखें झुका कर कहा छोड़ जाना तेरा।



Maine Khuda Se Ek Dua Mangi,
Dua Me Apni Maut Mangi,
Khuda Ne Kaha Maut To Tujhe De Dun,
Par Uska Kya
Jisne Har Dua Me Teri Zindagi Mangi.

मैंने खुदा से एक दुआ मांगी,
दुआ में अपनी मौत मांगी,
खुदा ने कहा मौत तो तुझे दे दूँ,
पर उसका क्या जिसने हर दुआ में तेरी जिंदगी मांगी।

Kitna Aur Dard Dega Bas Itna Bata De,
Aisa Kar Aye Khuda Meri Hasti Mita De,
Yun Ghut-Ghut Ke Jeene Se Maut Behtar Hai,
Main Kabhi Na Jagun Mujhe Aisi Neend Sula De.

कितना और दर्द देगा बस इतना बता दे,
ऐसा कर ऐ खुदा मेरी हस्ती मिटा दे,
यूं घुट घुट के जीने से तो मौत बेहतर है,
मैं कभी न जागूं मुझे ऐसी नींद सुला दे।

Maut Shayari in Hindi
Maut Shayari in Hindi 

Aaj Usne Apni Alag Duniya Basai Hai,
Meri Zindagi Bhi Maut Se JeetTi Aayi Hai,
Jitna Todna Chahta Hun Zindagi Ke Taar Main,
Utna Hi Khuda Ne Meri Umar Badhai Hai.

आज उसने अपनी अलग दुनिया बसाई है,
मेरी ज़िन्दगी भी मौत से जीतती आयी है,
जितना तोडना चाहता हूँ ज़िन्दगी के तार मैं,
उतना ही खुदा ने मेरी उम्र बड़ाई है।

Maut Shayari


Ai Maut, Main Tujhe Gale Lagana Chahta Hun,
Kitni Wafa Hai Tujh Mein Ye Aazmana Chahta Hun,
Rulaya Hai Bahut Duniya Mein Logo Ne Mujhe,
Mile Jo Tera Saath To Main Logo Ko Rulana Chahta Hun.

ऐ मौत, मैं तुझे गले लगाना चाहता हूँ,
कितनी वफ़ा है तुझ में यह आज़माना चाहता हूँ,
रुलाया है बहुत दुनिया में लोगो ने मुझे,
मिले जो तेरा साथ तो मैं लोगो को रुलाना चाहता हूँ।



Kitna Dard Hai Dil Mein Dikhaya Nahi Jata,
Kisi Ki Barbadi Ka Kissa Sunaya Nahi Jata,
Ek Baar Jee Bhar Ke Dekh Lo Iss Chehre Ko,
Kyunki Bar Bar Kafan Muh Se Uthaya Nahi Jata.

कितना दर्द है दिल में दिखाया नहीं जाता,
किसी की बर्बादी का किस्सा सुनाया नहीं जाता,
एक बार जी भर के देख लो इस चहेरे को,
क्योंकि बार-बार कफ़न मुहं से उठाया नहीं जाता।


Kaun Jane Kab Maut Ka Paigam Aa Jaye,
Zindagi Ki Akhari Sham Aa Jaye,
Hum To Dhundhte Hain Waqt Aisa Jab,
Hamari Zindagi Apke Kam Aa Jaye.

कौन जाने कब मौत का पैगाम आ जाये,
ज़िंदगी की आखरी शाम आ जाये,
हम तो ढूंढते हैं वक़्त ऐसा जब,
हमारी ज़िन्दगी आपके काम आ जाये।


Na Meri Koi Manzil Hai Na Kinara,
Tanhai Meri Mehfil Aur Yaadein
Mera Sahara, Tum Se Bichadar Ke
Kuch Yun Waqt Guzara, Kabhi Zindagi
Ko Tarse Kabhi Maut Ko Pukara.

न मेरी कोई मंज़िल है न किनारा,
तन्हाई मेरी महफ़िल और यादें
मेरा सहारा, तुम से बिछड़कर के
कुछ यूँ वक़्त गुज़ारा, कभी ज़िन्दगी
को तरसे कभी मौत को पुकारा।


Ai Maut Aa Kar Humko Khamosh To Kar Gayi Tu,
Magar Sadiyon Dilon Ke Andar Hum Gunjte Rahenge

ऐ मौत आ कर हमको खामोश तो कर गयी तू,
मगर सदियों दिलों के अंदर हम गूंजते रहेंगे।



Is Aas Me Chala Jaunga Main Ye Jahan Chor Kar,
Ke Shayad Mera Marna Hi Kuchh Kaam Aayega,
Shayad Chali Aaye Tu Us Pal Mere Paas Daudkar,
Jis Pal Tere Paas Meri Maut Ka Paigam Aayega.

इस आस में चला जाऊंगा मैं ये जहाँ छोड़ कर,
के शायद मेरा मरना ही कुछ काम आएगा,
शायद चली आये तू उस पल मेरे पास दौड़कर,
जिस पल तेरे पास मेरी मौत का पैगाम आएगा।


Meri Har Khata Pe Naraj Na Hona,
Apni Pyari Si Muskaan Kabhi Na Khona,
Sukoon Milta Hai Dekh Kar Aapki Hansi Ko,
Mujhe Maut Bhi Aa Jaye To Bhi Na Rona.

मेरी हर खता पे नाराज न होना
अपनी प्यारी सी मुस्कान कभी न खोना
सुकून मिलता है देख कर आपकी हंसी को
मुझे मौत भी आ जाये तो भी न रोना।

Maut Shayari in Hindi
Maut Shayari in Hindi 


Maut Se Keh Do Ki Hum Se Naraazgi Khatam Kar Le Ab,
Wo Bhi Bahut Badal Gaye Hain Jinke Liye Jiya Karte The Hum.

मौत से कह दो की हम से नाराज़गी खत्म कर ले अब,
वह भी बहुत बदल गए हैं जिनके लिए जिया करते थे हम।


Ik Tum Ho Jise Pyar Bhi Yaad Nahi,
Ik Mein Hun Jise Or Kuch Yaad Nahi,
Zindagi Maut Ke Do Hi To Tarane Hain,
Ik Tume Yaad Nahi Ik Mujhe Yad Nahi.

इक तुम हो जिसे प्यार भी याद नहीं,
इक में हूँ जिसे और कुछ याद नहीं,
ज़िन्दगी मौत के दो ही तो तराने हैं,
इक तुम्हें याद नहीं इक मुझे याद नहीं।


Aashiq Marte Nahin Sirf Dafnae Jaate Hain,
Kabr Khod Kar Dekho Intzaar Mein Paye Jaate Hain.

आशिक़ मरते नहीं सिर्फ दफनाए जाते हैं,
कब्र खोद कर देखो इंतज़ार में पाए जाते हैं।


Jo Aapne Na Liya Ho Aisa Koi Imtehaan Na Raha,
Insaan Aakhir Mohabbat Mein Insaan Na Raha,
Hai Koi Basti Jahan Se Na Utha Ho Janaza Diwane Ka,
Ashiq Ki Qurbat Se Mahroom Koi Qabristan Na Raha.

जो आपने न लिया हो, ऐसा कोई इम्तिहान न रहा,
इंसान आखिर मोहब्बत में इंसान न रहा,
है कोई बस्ती, जहां से न उठा हो ज़नाज़ा दीवाने का,
आशिक की कुर्बत से महरूम कोई कब्रिस्तान न रहा।


Hai maut ka intezaar par unpe bhi aitbaar hai,
dekhein pehele woh aate hain ya phir maut

है मौत का इंतज़ार पर उनपे भी ऐतबार है,
देखें पहले वो आते हैं या फिर मौत।


Shayari on Maut



Intezaar Hai Hamen To Bas Apni Maut Ka,
Unka Vada Hai Ki Us Din Mulakaat Hogi.

इंतज़ार है हमें तो बस अपनी मौत का,
उनका वादा है कि उस दिन मुलाकात होगी।



Lamha Lamha Saansein Khatam Ho Rahi Hain,
Zindagi Maut Ke Pehlu Mein So Rahi Hai,
Us Bewafa Se Naa Poocho Meri Maut Ki Wajah,
Wo To Zamane Ko Dikhane Ke Liye Ro Rahi Hai.

लम्हा लम्हा सांसें खत्म हो रही हैं,
ज़िन्दगी मौत के पहलू में सो रही है,
उस बेवफा से ना पूछो मेरी मौत की वजह,
वह तो ज़माने को दिखने के लिए रो रही है।


Kahan Dhoondhoge Mujhko, Mera Pata Lete Jao,
Ek Kabr Nai Hogi Us Par Jalta Diya Ho.

कहाँ ढूंढोगे मुझको, मेरा पता लेते जाओ,
एक कब्र नई होगी उस पर जलता दिया होगा।


Palkein Khuli Subah To Yeh Jaana Humne,
Maut Ne Aaj Phir Se Humein Zindagi Ke Hawale Kar Diya.

पलकें खुली सुबह तो यह जाना हमने,
मौत ने आज फिर से हमें ज़िन्दगी के हवाले कर दिया।


Ab Tak Hum Muntzir Hain Jinke Ai Khuda,
Unko Hamara Khayal Tak Na Aaya,
Unke Ishq Mein Hamari Jaan Tak Chali Gayi,
Aur Unko Hamari Maut Ka Malal Tak Na Aaya.

अब तक हम मुन्तजिर हैं जिनके ऐ खुदा,
उनको हमारा ख्याल तक न आया,
उनके इश्क में हमारी जान तक चली गयी,
और उनको हमारी मौत का मलाल तक न आया।



Log Kahte Hain Ki Ladkiyan Zindagi Hoti Hain Maut Nahi,
Magar Wo Kya Jane Ki Dhoka Bhi Zindagi Deti Hai Maut Nahi.

लोग कहते हैं कि लड़कियां ज़िन्दगी होती हैं मौत नहीं,
मगर वह क्या जाने की ढोका भी ज़िन्दगी देती है मौत नहीं।



Maut Ne Chupke Se Najane Kya Kaha,
Aur Zindagi Khamosh Ho Kar Reh Gayi.

मौत ने चुपके से नजाने क्या कहा,
और ज़िन्दगी खामोश हो कर रह गयी।


Kya Kahun Tujhe... Khwab Kahun To Toot Jayega,
Dil Kahun, To Bikhar Jaayega.
Aa Tera Naam Zindagi Rakh Doon,
Maut Se Pahle To Tera Saath Chhoot Na Payega.

क्या कहूँ तुझे... ख्वाब कहूँ तो टूट जायेगा,
दिल कहूँ, तो बिखर जायेगा।
आ तेरा नाम ज़िन्दगी रख दूँ,
मौत से पहले तो तेरा साथ छूट न पायेगा।


Log Kahte Hain Ki Ladkiyan Zindagi Hoti Hain Maut Nahi,
Magar Wo Kya Jane Ki Dhoka Bhi Zindagi Deti Hai Maut Nahi.

लोग कहते हैं कि लड़कियां ज़िन्दगी होती हैं मौत नहीं,
मगर वह क्या जाने की ढोका भी ज़िन्दगी देती है मौत नहीं।


Jeena Chahata Hun Magar Zindagi Raas Nahin Aati,
Marna Chahta Hun Magar Maut Paas Nahin Aati,
Udas Hoon Is Zindagi Se Isaliye Kyoki,
Uski Yaaden Tadpane Se Baaj Nahin Aateen.

जीना चाहता हूँ मगर जिंदगी रास नहीं आती,
मरना चाहता हूँ मगर मौत पास नहीं आती,
उदास हूँ इस जिंदगी से इसलिए क्योंकि,
उसकी यादें तड़पाने से बाज नहीं आतीं।



Ishq Ke Naam Par Deewane Chale Aate Hain,
Shama Ke Peeche Parwane Chale Aate Hain,
Tumhe Yaad Na Aaye Toh Chale Aana Meri Maut Par,
Uss Din Toh Begaane Bhi Chale Aate Hain.

इश्क के नाम पर दीवाने चले आते हैं,
शमा के पीछे परवाने चले आते हैं,
तुम्हें याद ना आये तो चले आना मेरी मौत पर,
उस दिन तो बेगाने भी चले आते हैं।



Aasmaan Ke Pare Mukam Mil Jaye,
Rab Ko Mera Ye Paigaam Mil Jaye,
Thak Gayi Hai Dhadakane Ab To Chalte Chalte,
Thahare Sanse To Shayad Aaram Mil Jaye.

आसमान के परे मुकाम मिल जाए,
रब को मेरा ये पैगाम मिल जाए,
थक गयी है धड़कनें अब तो चलते चलते,
ठहरे सांसे तो शायद आराम मिल जाए।


Maut ki Shayari


Teri Berukhi Aur Teri Meherbaani,
Yehi Maut Hai Aur Yehi Zindgaani.

तेरी बेरुखी और तेरी मेहरबानी,
यही मौत है और यही ज़िंदगानी।



Rukhasat Hue Teri Gali Se Ham Aaj Kuchh Is Kadar,
Logo Ke Muh Pe Raam Naam Tha Aur Mere Dil Mein Bas Tera Naam.

रुखसत हुए तेरी गली से हम आज कुछ इस कदर,
लोगो के मुह पे राम नाम था और मेरे दिल में बस तेरा नाम।




Zindagi Zakhmon Se Bhari Hai,
Waqt Ko Marham Banana Seekh Lo,
Harna To Hai Hi Maut Ke Hathon Ek Din,
Filhaal Zindagi Ko Jeena Seekh Lo.

ज़िंदगी ज़ख्मों से भरी है,
वक़्त को मरहम बनाना सीख लो,
हारना तो है ही मौत के हाथों एक दिन,
फिलहाल ज़िंदगी को जीना सीख लो।


Maut Ka Dar, Zindagi Ke Dar Se Hi Aata Hai,
Jo Shakhs Bharpoor Zindagi Jeeta Hai,
Vah Kisi Bhi Waqt
Maut Ko Gale Lagane Ke Liye Taiyar Rahta Hai.

मौत का डर, जिंदगी के डर से ही आता है,
जो शख्स भरपूर जिंदगी जीता है,
वह किसी भी वक्त
मौत को गले लगाने के लिए तैयार रहता है।

Maut Shayari in Hindi
Maut Shayari in Hindi 


Yun Dil Se Dil Ko Juda Na Kijiyega,
Jara Soch Samajh Kar Faisla Kijiyega,
Agar Jee Sakte Ho Aap Mere Bina,
To Beshak Meri Maut Ki Dua Kijiyega.

यूँ दिल से दिल को जुदा न कीजियेगा,
ज़रा सोच समझ कर फैसला कीजियेगा,
अगर जी सकते हो आप मेरे बिना,
तो बेशक मेरी मौत की दुआ कीजियेगा।


Hamari Har Khata Pe Naraz Na Hona,
Apni Pyari Si Muskurahat Ko Kabhi Na Khona,
Sukun Milta Hai Dekh Kar Aapki Muskurahat,
Hume Maut Bhi Aaye To Bhi Mat Rona.

हमारी हर खता पे नाराज़ न होना,
अपनी प्यारी सी मुस्कराहट को कभी न खोना,
सुकून मिलता है देख कर आपकी मुस्कराहट,
हमे मौत भी आये तो भी मत रोना।



Bikhre Pade Hain Patthar Meri Qabr Ke,
Tum Jo Aa Jao To Marammat Ho Jaye.

बिखरे पड़े हैं पत्थर मेरी क़ब्र के,
तुम जो आ जाओ तो मरम्मत हो जाये।


Ek Din Nikla Sair Ko Mere Dil Mein Kuchh Armaan The,
Ek Taraf Thi Jhadiyaan Ek Taraf Shmshaan The,
Pair Tale Ik Haddi Aai Uske Bhi Yahi Bayaan The,
Chalne Vale Sambhal Kar Chalna Ham Bhi Kabhi Insaan The.

एक दिन निकला सैर को मेरे दिल में कुछ अरमान थे,
एक तरफ थी झाड़ियाँ एक तरफ श्मशान थे,
पैर तले इक हड्डी आई उसके भी यही बयान थे,
चलने वाले संभल कर चलना हम भी कभी इंसान थे।



Pyar Aur Maut Se Darta Kaun Hai,
Pyar To Ho Jata Hai Karta Kaun Hai,
Ham To Kar Den Pyar Me Jaan Bhi Kurban,
Par Hamen Ye Pata To Chale
Hamse Pyar Karata Kaun Hai.

प्यार और मौत से डरता कौन है,
प्यार तो हो जाता है करता कौन है,
हम तो कर दें प्यार में जान भी कुर्बान,
पर हमें ये पता तो चले
हमसे प्यार करता कौन है।



Itni Shiddat Se Chaha Use Ki Khud Ko Bhi Bhula Diya,
Unke Liye Apne Dil Ko Kitni Hi Baar Rula Diya,
Ek Baar Hi Thukraya Unhone,
Aur Humne Khud Ko Maut Ki Neend Sula Diya.

इतनी शिद्दत से चाहा उसे की खुद को भी भुला दिया,
उनके लिए अपने दिल को कितनी ही बार रुला दिया,
एक बार ही ठुकराया उन्होंने,
और हमने खुद को मौत की नींद सुला दिया।



Kuchh Saanse Bachi Hain Aakhiri Bar Deedar De Do,
Jhutha Hi Sahi Ek Baar Magar Pyaar De Do,
Zindgi To Veeran Thi Par Maut Toh Gumnaam Na Ho,
Mujhe Gale Laga Lo Fir Maut Mujhe Hajaar De Do.

कुछ साँसे बची हैं आखिरी बार दीदार दे दो,
झूठा ही सही एक बार मगर तुम प्यार दे दो,
जिंदगी तो वीरान थी मौत भी गुमनाम ना हो,
मुझे गले लगा लो फिर मौत मुझे हजार दे दो।


Chain To Chhin Chuka Hai Ab Bas Jaan Baki Hai,
Abhi Mohabbat Mein Mera Imtehan Baki Hai,
Mil Jana Waqt Par Ai Maut Ke Farishte,
Kisi Ko Gila Hai Kisi Ka Farmaan Baki Hai.

चैन तो छिन चुका है अब बस जान बाकी है,
अभी मोहब्बत में मेरा इम्तेहान बाकी है,
मिल जाना वक़्त पर ऐ मौत के फ़रिश्ते,
किसी को गिला है किसी का फरमान बाकी है।


Andar Se To Kab Ke Mar Chuke Hai Ham
Ai Maut Tu Bhi Aaja, Log Saboot Maangte Hain.


अंदर से तो कब के मर चुके है हम
ए मौत तू भी आजा लोग सबूत मांगते हैं।


Tum Dard Bhi Ho Mera Aur Dard Ki Dawa Bhi Ho,
Meri Maut Ka Karan Bhi Ho Tum, Jeene Ki Vajah Bhi Ho,
Khuli Nazro Se Tum Door Ho Bahut Mujhse,
Band Ankhon Me Har Jagah Mere Paas Bhi Ho Tum.

तुम दर्द भी हो मेरा और दर्द की दवा भी हो,
मेरी मौत का कारण भी हो तुम, जीने की वजह भी हो,
खुली नज़रो से तुम दूर हो बहुत मुझसे,
बंद आँखों में हर जगह मेरे पास भी हो तुम।



Wo Itna Royi Meri Maut Par Mujhe Jagane Ke Liye,
Main Marta Hi Kyu Wo Thoda Ro Deti Mujhe Paane Ke Liye.

वो इतना रोई मेरी मौत पर मुझे जगाने के लिए,
मैं मरता ही क्यूँ वो थोड़ा रो देती मुझे पाने के लिए।


Mohabat Ki Har Gali Gumnaam Kyu Hai,
Judai Or Maut Ishq Ka Anjaam Kyu Hai,
Log Dete Hain Naam Ise Paakeezgi Ka,
To Ye Mohabbat Itni Badnaam Kyu Hai.

मोहबत की हर गली गुमनाम क्यों है,
जुदाई और मौत इश्क का अंजाम क्यों है,
लोग देते हैं नाम इसे पाकीज़गी का,
तो ये मोहब्बत इतनी बदनाम क्यों है।


Teri Najron Se Door Ho Jayenge Hum,
Dur Fizaon Mai Kahin Kho Jayenge Hum,
Meri Yaadon Se Lipatkar Rone Aaoge Tum,
Jab Zameen Ko Odh Kar So Jayenge Hum.

तेरी नजरों से दूर हो जायेंगे हम,
दूर फिजाओं में कहीं खो जायेंगे हम,
मेरी यादों से लिपटकर रोने लगोगे,
जब ज़मीन को ओढ़ कर सो जायेंगे हम।


Chale Aao Bas Aakhiri Sansen Bachi Hain Kuchh,
Tumhara Deedaar Ho Jaye Khul Jayen Meri Aankhen.

चले आओ बस आखिरी साँसें बची हैं कुछ,
तुम्हारा दीदार हो जाए खुल जायें मेरी आँखें।



Kal Agar Fursat Na Mili Toh Kya Hoga,
Itni Mohlat Na Mili Toh Kya Hoga,
Roj Kahte Ho Kal Milenge Kal Milenge,
Kal Ye Aankhein Na Khuli To Kya Hoga.

कल अगर फुर्सत न मिली तो क्या होगा,
इतनी मोहलत न मिली तो क्या होगा,
रोज़ कहते हो कल मिलेंगे कल मिलेंगे,
कल ये आँखे न खुली तो क्या होगा।


Usne Mujhse Vaade To Hazaron Kiye The,
Kaash Ek Vaada Hi Usne Nibhaya Hota,
Maut Ka Kisko Pata Ki Kab Ayegi,
Par Kaash Usne Zinda Jalaya Na Hota.

उसने मुझसे वादे तो हजारों किये थे ,
काश एक वादा ही उसने निभाया होता,
मौत का किसको पता कि कब आएगी,
पर काश उसने जिंदा जलाया न होता।




Post a Comment

0 Comments