इंतज़ार शायरी Best Intezaar Shayari In Hindi

Intezaar Shayari In Hindi  : - हेलो दोस्तों अगर आप भी सर्च कर रहे हैं , बेहतरीन इंतज़ार शायरी हिंदी में  हिंदी में अपने दोस्तों के साथ शेयर करने के लिए , व्हात्सप्प और फेसबुक पर तो आप बिलकुल सही जगह हो । हम आपके लिए इस पोस्ट में बेहतरीन इंतज़ार शायरी का कलेक्शन लेकर आये हैं जो आपको बहुत पसंद आएगा आप लोग इस पोस्ट को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें ।


इंतज़ार शायरी | Best Intezaar Shayari In Hindi


Ye Aankhe Dinbhar Kuchh Talashti Rahti Hain,
Koi To Hai... Jis Ka Inhe Intezaar Hai.

ये आँखे दिनभर कुछ तलाशती रहती हैं,
कोई तो है... जिस का इन्हे इंतजार है।

Intezaar Shayari
Intezaar Shayari 


Ek Raat Wo Gaya Tha Jahan Baat Rok Ke,
Ab Tak Ruka Hua Hoon Wahin Raat Rok Ke.

एक रात वो गया था जहाँ बात रोक के,
अब तक रुका हुआ हूँ वहीं रात रोक के।




Jhuki Hui Palkon Se Unka Deedaar Kiya,
Sab Kuchh Bhula Ke Unka Inezaar Kiya
Wo Jaan Hi Na Paye Jajbaat Mere,
Maine Sabse Jyada Jinhen Pyar Kiya.

झुकी हुई पलकों से उनका दीदार किया,
सब कुछ भुला के उनका इंतजार किया
वो जान ही न पाए जज्बात मेरे,
मैंने सबसे ज्यादा जिन्हें प्यार किया।


Gar Rooth Jaye Koi Apna To Jhat Se Mana Lo Use,
Rishte Aksar Bikhar Jate Hain Ik Dooje Ke Intezaar Me.

गर रूठ जाये कोई अपना तो झट से मना लो उसे,
रिश्ते अक्सर बिखर जाते है इक दूजे के इंतज़ार में।



Kin Lafjon Mein Likhoon Main Apne Intezaar Ko Tumhen,
Bejuban Hai Ishq Mera Dhoondhta Hai Khamoshi Se Tujhe.

किन लफ्जों में लिखूँ मैं अपने इन्तजार को तुम्हें,
बेजुबां है इश्क़ मेरा ढूँढता है खामोशी से तुझे।


Mathe Ko Choom Lun Main Aur Unki Julfe Bikhar Jaye,
In Lamhon Ke Intejaar Mein Kahin Zindagi Na Guzar Jaye.

माथे को चूम लूँ मैं और उनकी जुल्फ़े बिखर जाये,
इन लम्हों के इंतजार में कहीं जिंदगी न गुज़र जाये।


Aankhon Ko Intezaar Ki Bhatti Pe Rakh Diya,
Maine Diye Ko Aandhi Ki Marzi Pe Rakh Diya.

आँखों को इंतज़ार की भट्टी पे रख दिया,
मैंने दिये को आँधी की मर्ज़ी पे रख दिया।


Jeene Ki Khwaish Me Har Roz Marte Hain,
Wo Aaye Na Aaye Hum Intezaar Karte Hain,
Jutha Hi Sahi Mere Yaar Ka Vaada,
Hum Sach Maankar Aitbar Karte Hain.

जीने की ख्वाइश में हर रोज़ मरते हैं,
वो आये न आये हम इंतज़ार करते हैं,
जूठा ही सही मेरे यार का वादा,
हम सच मानकर ऐतबार करते हैं।


Roj Tera Intezaar Hota Hai Roj Ye Dil Beqarar Hota Hai
Kash Ke Tum Samjh Sakte Ke Chup Rahne Walon Ko Bhi Pyar Hota Hai

रोज तेरा इंतजार होता है रोज ये दिल बेक़रार होता है
काश के तुम समझ सकते के चुप रहने वालों को भी प्यार होता है

Intezaar Shayari
Intezaar Shayari 


Ye Sard Hawaen Mujhse Kahti Hain Ki Disambar Aa Gaya Hai,
Mujhe Un Bahon Ki Garmahat Ka Intezaar Aaj Bhi Hai.

ये सर्द हवाएं मुझसे कहती है कि दिसम्बर आ गया है,
मुझे उन बाहों की गर्माहट का इंतज़ार आज भी है।



Chale Bhi Aao Tasavvur Mein Meharbaan Bankar,
Aaj Intezaar Tera, Dil Ko Had Se Jyaada Hai.

चले भी आओ तसव्वुर में मेहरबां बनकर,
आज इंतज़ार तेरा, दिल को हद से ज्यादा है।


Poori Raat Mere Ghar Ka Ek Darwaza Khula Raha,
Main Raah Dekhta Raha Woh Rasta Badal Gaya.

पूरी रात मेरे घर का एक दरवाजा खुला रहा,
मैं राह देखता रहा वो रास्ता बदल गया।


Kabhi To Hume Bhi Yaad Karoge,
Do Pal Mere Liye Bhi Barbaad Karoge,
Intezaar Rahega Hume Bhi Qayamat Tak,
Hum Bhi To Dekhe Tum
Akhir Kab Tak Hume Pyar Na Karoge.

कभी तो हमे भी याद करोगे,
दो पल मेरे लिए भी बर्बाद करोगे,
इंतज़ार रहेगा हमे भी क़यामत तक
हम भी तो देखे तुम,
आखिर कब तक हमे प्यार न करोगे।


Meree Nigaah Mein Phir Koee Doosara Chehara Nahin Aaya,
Bharosa Hee Kuchh Aisa Tha Tumhaare Laut Aane Ka.

मेरी निगाह में फिर कोई दूसरा चेहरा नहीं आया,
भरोसा ही कुछ ऐसा था तुम्हारे लौट आने का।


Kaheen wo Aa Ke Mita De Na Intezaar Ka Lutf,
Kaheen Qubool Na Ho Jaye Iltija Meri.

कहीं वो आ के मिटा दें न इंतज़ार का लुत्फ़,
कहीं क़ुबूल न हो जाए इल्तिजा मेरी।


Us Ishq Ki Aag Mere Dil Ko Aaj Bhi Jalaya Karti Hai,
Juda Huye To Kya Hua Ye Aankh Aaj Bhi Unka Intezaar Karti Hai.

उस इश्क़ की आग मेरे दिल को आज भी जलाया करती है,
जुदा हुए तो क्या हुआ ये आँख आज भी उनका इंतज़ार करती है।


Door Hi Sahi Magar Tujhse Pyar To Hai,
Tere Ienkaar Ke Baad Bhi Intezaar To Hai.
Agar Aasaan Hota Bhoolna, To Bhool Jate,
Par Aaj Bhi Yeh Dil Beqaraar To Hai

दूर ही सही मगर तुझसे प्यार तो है,
तेरे इन्कार के बाद भी इंतज़ार तो है।
अगर आसान होता भूलना, तो भूल जाते,
पर आज भी ये दिल बेक़रार तो है।



Muddaton Se Uske Intezaar Mein Hun Kahi Padh Liya Tha,
Ki Sachchi Mohabbat Lautkar Aati Hai...


मुद्दतों से उसके इंतजार में हुँ कही पढ़ लिया था,
कि सच्ची मोहब्बत लौटकर आती है...।


Uski Dard Bhari Aankhon Ne Jis Jagah Kaha Tha Alvida,
Aaj Bhi Vahi Khada Hai Dil Uske Aane Ke Intezaar Mein.

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा,
आज भी वही खड़ा है दिल उसके आने के इंतजार में।

Intezaar Shayari  In Hindi
Intezaar Shayari  In Hindi 



Najron Se Najron Ka Takrav Hota Hai,
Har Mod Par Kisi Ka Intezaar Hota Hai,
Dil Rota Hai Jakhm Hanste Hain,
Isi Ka Naam Hi Pyar Hota Hai.

नजरों से नजरों का टकराव होता है,
हर मोड़ पर किसी का इंतज़ार होता है,
दिल रोता है जख्म हँसते हैं,
इसी का नाम ही प्यार होता है।



Dil Ki Ummeedon Ka... Haunsla To Dekho,
Intezaar Uska Jisko Ehsaas Tak Nahin.


दिल की उम्मीदों का... हौंसला तो देखो,
इंतजार उसका जिसको अहसास तक नहीं।


Mujhe Intezaar Karna Behad Pasand Hai,
Kyuki Ye Waqt Ummeed Se Bhara Hota Hai.

मुझे इंतज़ार करना बेहद पसंद है,
क्योंकि ये वक़्त उम्मीद से भरा होता है।



Faslon Se Intezaar Badha Karta Hai,
Intezaar Se Pyar Badha Karta Hai,
Sari Zindagi Khuda Se Sajda Karo Tab Ja Ke,
Tumhare Jaisa Yaar Mila Karta Hai.

फासलों से इंतज़ार बढा करता है,
इंतज़ार से प्यार बढ़ा करता है,
सारी ज़िंदगी ख़ुदा से सजदा करो तब जा के,
तुम्हारे जैसा यार मिला करता है।




Fir Muqaddar Ki Lakeeron Mein Likh Diya Intezar,
Fir Wohi Raat Ka Aalam Aur Main Tanha Tanha.

फिर मुक़द्दर की लकीरों में लिख दिया इंतज़ार,
फिर वही रात का आलम और मैं तन्हा-तन्हा।


Kyu Kisi Se Itna Pyar Ho Jata Hai,
Ek Pal Ka Intezaar Bhi Dushwar Ho Jata Hai,
Lagne Lagte Hain Apne Bhi Paraye,
Aur Ek Ajnabi Par Aitbaar Ho Jaata Hai.

क्यों किसी से इतना प्यार हो जाता है,
एक पल का इंतज़ार भी दुश्वार हो जाता है,
लगने लगते हैं अपने भी पराये,
और एक अजनबी पर ऐतबार हो जाता है।


Tadap Ke Dekho Kisi Ki Chahat Mein,
To Pata Chalega, Ki Intezaar Kya Hota Hai,
Yun Hi Mil Jaye, Koi Bina Chahe,
To Kaise Pata Chalega, Ki Pyar Kya Hota Hai.

तड़प के देखो किसी की चाहत में,
तो पता चलेगा, कि इंतजार क्या होता है,
यूं ही मिल जाए, कोई बिना चाहे,
तो कैसे पता चलेगा, कि प्यार क्या होता है।



Kishton Mein Khudkushi Kar Rahi Hai Ye Zindagi,
Intezaar Tera...Mujhe Poora Marne Bhi Nahin Deta.

किश्तों में खुदकुशी कर रही है ये जिन्दगी,
इंतज़ार तेरा...मुझे पूरा मरने भी नहीं देता।



Unki Aawaz Sunne Ko Bekaraar Rahte Hain,
Shayad Isi Ko Duniya Mein Pyar Kahte Hain,
Katne Se Bhi Jo Na Kate Waqt,
Usi Ko Mohabbat Mein Intezaar Kahte Hain.

उनकी आवाज़ सुनने को बेकरार रहते हैं,
शायद इसी को दुनिया में प्यार कहते हैं,
काटने से भी जो ना कटे वक्त,
उसी को मोहब्बत में इंतज़ार कहते हैं।



Hath Ki Lakeeron Par Aitbaar Kar Lena,
Bharosa Ho To Kisi Se Pyar Kar Lena,
Khona Pana To Naseebon Ka Khel Hai,
Khushi Milegi Bas Thoda Intazaar Kar Lena.

हाथ कि लकीरों पर ऐतबार कर लेना,
भरोसा हो तो किसी से प्यार कर लेना,
खोना पाना तो नसीबों का खेल है,
ख़ुशी मिलेगी बस थोड़ा इंतज़ार कर लेना।

Intezaar Shayari  In Hindi
Intezaar Shayari  In Hindi 



Dil Ko Tha Aapka Besabri Se Intezaar,
Palke Bhi Thi Aapki Ek Jhalak Ko Bekraar,
Aapke Aane Se Aayi Hai Kuchh Aisi Bahaar,
Ki Dil Bas Mange Aapke Liye
Khushiyan Beshumaar.

दिल को था आपका बेसबरी से इंतजार,
पलके भी थी आपकी एक झलक को बेकरार,
आपके आने से आयी है कुछ ऐसी बहार,
कि दिल बस मांगे आपके लिये खुशियाँ बेशुमार।



Aankhon Mein Basi Hai Pyari Soorat Teri,
Aur Dil Mein Basa Hai Tera Pyaar,
Chahe Tu Kabool Kare Ya Na Kare,
Hamen Rahega Tera Intaezaar.

आँखों में बसी है प्यारी सूरत तेरी,
और दिल में बसा है तेरा प्यार,
चाहे तू कबूल करे या ना करे,
हमें रहेगा तेरा इंतज़ार।


Tum Dekhna Yeh Intezaar Rang Layega Zaroor,
Ek Roz Aagan Me Mausam-E-Bahar Aayegi Zaroor.

तुम देखना यह इंतज़ार रंग लायेगा ज़रूर,
एक रोज़ आँगन में मौसम-ए-बहार आएगी ज़रूर।


Tere Intezaar Ke Maare Hai Hum,
Sirf Teri Hi Yaado Ke Sahare Hai Hum,
Tujhe Chaha Tha Jeetna Is Duniya Se,
Or Aaj Tere He Haatho Haare Hai Hum.

तेरे इंतज़ार के मारे है हम,
सिर्फ तेरी ही यादों के सहारे है हम,
तुझे चाहा था जितना इस दुनिया से,
और आज तेरे ही हाथों हारे है हम।


Us Nazar Ki Taraf Mat Dekh,
Jo Tumko Dekhne Se Inkaar Karti Hai,
Duniya Ki Bheed Mein Us Nazar Ko Dekho,
Jo Sirf Tumhara Intezaar Karti Hai.


उस नज़र की तरफ मत देख,
जो तुमको देखने से इनकार करती है,
दुनिया की भीड़ में उस नज़र को देखो,
जो सिर्फ तुम्हारा इंतज़ार करती है।



Sukhe Patte Se Pyar Kar Lenge,
Tumhara Aitbaar Kar Lenge,
Tum Ye To Kaho Ki Hum Tumhare Hain,
Hum Zindagi Bhar Intezaar Kar Lenge.

सूखे पत्ते से प्यार कर लेंगे,
तुम्हारा ऐतबार कर लेंगे,
तुम ये तो कहो की हम तुम्हारे हैं,
हम ज़िन्दगी भर इंतज़ार कर लेंगे।



Wo Hote Agar Maut, To Maut Se Bhi Na Inkaar Hota,
Mar Bhi Jate Agar Mila Unka Pyar Hota,
Qubool Kar Lete Har Saza,
Agar Unki Aankhon Me Hamara Intezaar Hota


वो होते अगर मौत, तो मौत से भी न इंकार होता,
मर भी जाते अगर मिला उनका प्यार होता,
क़ुबूल कर लेते हर सजा,
अगर उनकी आँखों में हमारा इंतज़ार होता।


Honth Kah Nahi Sakte Jo Fasana Dil Ka,
Shayad Najron Se Wo Baat Ho Jaye,
Isi Ummeed Mein Intezaar Karte Hain Raat Ka,
Ki Shayad Sapno Me Hi Mulakaat Ho Jaye.

होंठ कह नही सकते जो फ़साना दिल का,
शायद नजरों से वो बात हो जाए,
इसी उम्मीद में इंतजार करते हैं रात का,
कि शायद सपनों मे ही मुलाकात हो जाए।


Ab Kaise Kahu Ki Tujhse Pyar Hai Kitna,
Tu Kya Jaane Tera Intezaar Hai Kitna.

अब कैसे कहूँ कि तुझसे प्यार है कितना,
तू क्या जाने तेरा इंतज़ार है कितना।


Fasle Mitakar Aapas Mein Pyar Rakhna,
Pyar Ka Rishta Yoonhi Barkaraar Rakhna,
Bichhad Jayen Kabhi Aap Se Ham,
To Aankhon Me Hamesha Hamra Intezar Rakhna

फासले मिटाकर आपस में प्यार रखना,
प्यार का रिश्ता यूँही बरकरार रखना,
बिछड़ जाएं कभी आप से हम,
तो आँखों में हमेशा हमारा इंतज़ार रखना।



Dil Mein Jo Aaya Wo Likh Diya,
Kabhi Milna Kabhi Bichhadna Likh Diya,
Teri Judai Hi Hai Ab Muqaddar Mera,
Hamne Zindagi Ka Naam Intezaar Likh Diya.

दिल में जो आया वो लिख दिया,
कभी मिलना कभी बिछड़ना लिख दिया,
तेरी जुदाई ही है अब मुक़द्दर मेरा,
हमने ज़िन्दगी का नाम इंतज़ार लिख दिया।


Intezaar To Bahut Tha Humein,
Lekin Aaye Na Woh Kabhi,
Hum To Bin Bulaaye Hi Aa Jaate,
Agar Hota Unhe Bhi Intezaar Kabhi.

इंतज़ार तो बहुत था हमें,
लेकिन आये न वह कभी,
हम तो बिन बुलाये ही आ जाते,
अगर होता उन्हें भी इंतज़ार कभी।


Yun Palke Bichha Kar Tera Intezaar Karte Hain,
Yah Wo Gunah Hai Jo Ham Baar Baar Karte Hai,
Jalakar Hasrat Ki Raah Par Chiraag,
Ham Subah Aur Sham Tere Milne Ka Intezaar Karte Hai.

यूँ पलके बिछा कर तेरा इंतज़ार करते है,
यह वो गुनाह है जो हम बार बार करते है,
जलाकर हसरत की राह पर चिराग,
हम सुबह और शाम तेरे मिलने का इंतज़ार करते है।


Aankhon Ko Intezaar Ka De Kar Hunar Chala Gaya,
Chaha Tha Ik Shakhs Ko Jane Kidhr Chala Gaya.

आँखों को इंतज़ार का दे कर हुनर चला गया,
चाहा था इक शख़्स को जाने किधर चला गया।



Uski Dard Bhari Aankhon Ne Jis Jagah Kaha Tha Alvida,
Aaj Bhi Wahi Khada Hai Dil Uske Aane Ke Intezaar Mein.

उसकी दर्द भरी आँखों ने जिस जगह कहा था अलविदा,
आज भी वहीं खड़ा है दिल उसके आने के इंतज़ार में।


Phir Aaj Koi Gazal Tere Naam Na Ho Jaye,
Kahin Likhte Likhte Shaam Na Ho Jaye,
Kar Rahe Hain Intezaar Teri Mohabbat Ka,
Isi Intezaar Me Zindagi Tamam Na Ho Jaye.

फिर आज कोई ग़ज़ल तेरे नाम न हो जाये,
कहीं लिखते लिखते शाम न हो जाये,
कर रहे हैं इंतज़ार तेरी मोहब्बत का,
इसी इंतज़ार में ज़िन्दगी तमाम न हो जाये।


Jaisi Hai Teri Khwaish Waise Pyar Karenge,
Har Dhadkan Par Apni Wafa Ka Ikraar Karenge,
Jahan Bhi Jaoge Har Kadam Hume Hi Paoge,
Ishq Ke Har Mod Par Tera Intezaar Karenge.

जैसी है तेरी ख्वाइश वैसे प्यार करेंगे,
हर धड़कन पर अपनी वफ़ा का इक़रार करेंगे,
जहाँ भी जाओगे हर कदम हममे ही पाओगे,
इश्क़ के हर मोड़ पर तेरा इंतज़ार करेंगे।



Dooriyaan Hi Sahi Par Der To Nahin,
Intezaar Bhala Par Judai To Nahin,
Milna Bichhadna To Kismat Hai Apni,
Aakhir Insan Hain Ham Farishte To Nahin.


दूरियां ही सही पर देरी तो नहीं,
इंतज़ार भला पर जुदाई तो नहीं,
मिलना बिछड़ना तो किस्मत है अपनी,
आखिर इंसान हैं हम फ़रिश्ते तो नहीं।



Zakhm Itne Bade Hain Izhaar Kya Karein,
Hum Khud Nishana Ban Gaye Vaar Kya Karein,
Mar Gaye Hum Lekin Khuli Reh Gayi Ankhen,
Ab Isse Zyada Kisi Ka Intezaar Kya Karein.

ज़ख्म इतने बड़े हैं इज़हार क्या करें,
हम खुद निशाना बन गए वार क्या करें,
मर गए हम लेकिन खुली रह गयी ऑंखें,
अब इससे ज्यादा किसी का इंतज़ार क्या करें।


Kabhi Jazbaat To Kabhi Yadon Ko Dafan Karte Hain,
Kabhi Aansu To Kabhi Dard Piya Karte Hain.
Mohtaj To Nahi Hum Phir Bhi,
Aap Ke Pyar Ka Intezaar Kiya Karte Hain.

कभी जज़्बात तोह कभी यादवों को दफ़न करते हैं,
कभी आँसू तोह कभी दर्द पिया करते है.
मोहताज तो नहीं हम फिर भी,
आप के प्यार का इंतज़ार किया करते है।

Post a Comment

0 Comments