Mere Mehboob Tujhe Meri Muhabbat (Male) Song Lyrics

मेरे महबूब तुझे, मेरी मुहब्बत की क़सम

Mere Mehboob Tujhe Meri Muhabbat (Male) Song Lyrics in Hindi

मेरे महबूब तुझे मेरी मुहब्बत की क़सम
फिर मुझे नरगिसी आँखों का सहारा दे दे
मेरा खोया हुआ रंगीन नज़ारा दे दे, मेरे महबूब तुझे ...

भूल सकती नहीं आँखें वो सुहाना मंज़र
जब तेरा हुस्न मेरे इश्क़ से टकराया था
और फिर राह में बिखरे थे हज़ारोँ नग़में
मैं वो नग़में तेरी आवाज़ को दे आया था
साज़-ए-दिल को उन्हीं गीतों का सहारा दे दे
मेरा खोया ...

याद है मुझको मेरी उम्र की पहली वो घड़ी
तेरी आँखों से कोई जाम पिया था मैने
मेरे रग रग में कोई बर्क़ सी लहराई थी
जब तेरे मरमरी हाथों को छुआ था मैने
आ मुझे फिर उन्हीं हाथों का सहारा दे दे
मेरा खोया ...

मैने इक बार तेरी एक झलक देखी है
मेरी हसरत है के मैं फिर तेरा दीदार करूँ
तेरे साए को समझ कर मैं हंसीं ताजमहल
चाँदनी रात में नज़रों से तुझे प्यार करूँ
अपनी महकी हुई ज़ुल्फ़ों का सहारा दे दे
मेरा खोया ...

ढूँढता हूँ तुझे हर राह में हर महफ़िल में
थक गये हैं मेरी मजबूर तमन्ना के कदम
आज का दिन मेरी उम्मीद का है आखिरी दिन
कल न जाने मैं कहाँ और कहाँ तू हो सनम
दो घड़ी अपनी निगाहों का सहारा दे दे
मेरा खोया ...

सामने आ के ज़रा पर्दा उठा दे रुख़ से
इक यही मेरा इलाज-ए-ग़म-ए-तन्हाई है
तेरी फ़ुरक़त ने परेशान किया है मुझको
अब मिल जा के मेरी जान भी बन आई है
दिल को भूली हुई यादों का सहारा दे दे
मेरा खोया ...

मेरे महबूब तुझे मेरी मुहब्बत की कसम
फिर मुझे नर्गिसी आँखों का सहारा देदे
मेरा खोया हुआ रंगीन नज़ारा देदे
मेरे महबूब तुझे ...

ऐ मेरे ख़्वाब की ताबीर मेरी जान-ए-जिगर
ज़िन्दगी मेरी तुझे याद किये जाती है
रात दिन मुझको सताता है तस्सव्वुर तेरा
दिल की धड़कन तुझे आवाज़ दिये जाती है
आ मुझे अपनी सदाओं का सहारा देदे
मेरा खोया हुआ रंगीन नज़ारा देदे
मेरे महबूब तुझे ...

याद है मुझको मेरी उम्र की पहली वो घड़ी
तेरी आँखों से कोई जाम पिया था मैंने
मेरी रग-रग में कोई बर्क सी लहराई थी
जब तेरे मरमरी हाथों को छुआ था मैंने
आ मुझे फिर उन्हीं हाथों का सहारा देदे
मेरा खोया हुआ रंगीन नज़ारा देदे
मेरे महबूब तुझे ...

सामने आके ज़रा परदा उठादे रुख से
इक यही मेरा इलाज-ए-ग़म है
तेरी फ़ुरक़त ने परेशान किया है मुझको
अब तो मिल जा के मेरी जान पे बन आई है
दिल को भूली हुई यादों का सहारा दे दे
मेरा खोया हुआ रंगीन नज़ारा दे दे
मेरे महबूब तुझे ...

About This Song

SINGERS
Mohammed Rafi

LYRICIST
Shakeel Badayuni

About The Film

ACTORS
Rajendra Kumar, Sadhna, Ashok Kumar, Nimmi, Pran, Johny Walker, Ameeta
Mere Mehboob
Released Dec 31, 1963


Mere Mehboob Tujhe Meri Muhabbat (Male) Song Lyrics

mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam
phir muje nargisi aankhon kaa sahaara de de
mera khoyaa hua rangeen nazaaraa de de
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam

bhul sakati nahin ankhen vo suhana manzar
jab tera husn mere ishq se takaraayaa tha
aur phir raah mein bikhare the hazaron nagmen
main vo nagmen teri awaz ko de aayaa tha
saaj-e-dil ko unhi geeton kaa sahaara de de
mera khoyaa hua rangeen nazaaraa de de
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam

yaad hai mujko meri umr kee pehali vo ghadi
teri aankhon se koyi jam piya tha maine
meri rag-rag mein koyi barq see laharaee thi
jab tere marmari haathon ko chuaa tha maine
aa muje phir unheen haathon kaa sahaara de de
mera khoyaa hua rangeen nazaaraa de de
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam

maine ek baar teri ek jhalak dekhi hai
meri hasarat hai ke main phir tera didaar karoon
tere sae ko samaj kar main haseen tajmahal
chandani raat mein nazaron se tuje pyaar karoon
apni mahaki hui zulfon kaa sahaara de de
mera khoyaa hua rangeen nazaaraa de de
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam

dhundta hoon tuje har raah mein har mehfeel mein
thak gaye hai meri majaboor tamanna ke kadam
aaj kaa din meri ummid kaa hai aakhri din
kal naa jaane main kahaan aur kahaan too ho sanam
do ghadi apni nigahon kaa sahaara de de
mera khoyaa hua rangeen nazaaraa de de
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam

saamane aa ke zaraa paradaa uthaa de rukh se
ek yahi mera ilaaj-e-gam-e-tanhaai hai
teri furqat ne pareshaan kiya hai mujko
ab to mil ja ke meri jaan pe ban aayi hai
dil ko bhuuli hui yaadon kaa sahaara de de
mera khoyaa hua rangeen nazaaraa de de
mere mehboob tuje meri mohabbat kee kasam
mere mehboob tuje

Writer(s): SHAKEEL BADAYUNI, NAUSHAD




Post a Comment

0 Comments